Ticker

10/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Ukraine is making dirty bomb || रूस का आरोप:- यूक्रेन बना रहा डर्टी न्यूक्लियर बम, अमेरिका ने शुरू की मदद, आइए जाने क्या होता है डर्टी न्यूक्लियर बम?


रूस का आरोप:- यूक्रेन बना रहा डर्टी न्यूक्लियर बम, अमेरिका ने शुरू की मदद, आइए जाने क्या होता है डर्टी न्यूक्लियर बम?

यह सिर्फ रूस का आरोप है कि यूक्रेन अपने चेर्नोबिल शहर में डर्टी न्यूक्लियर बम (Dirty Nuclear Bomb)  बनाना शुरू कर दिया है। जिसकी मदद अमेरिका कर रहा है। रूस ने यहां पर कोई सबूत नहीं पेश किए हैं।

क्या होता है Derty बम??

"डर्टी न्यूक्लियर बम" के बारे में जानने के लिए Click करें।
 रूस का जो सरकारी मीडिया है उन्होंने कहा है कि उनके इंटेलिजेंट सर्कल में एक बहुत ही रिपिटेटिव इंसान ने यह आरोप लगाया है कि यूक्रेन प्लूटोनियम आधारित एक डर्टी बम बना रहा है। और यह पहली बार नहीं है जब रूस ने यह आरोप लगाया हो।

WHAT DID RUSSIA SAY

       Russian media cited an unnamed source on Sunday as saying that Ukraine was close to building a plutonium- based "dirty bomb" nuclear weapon. "a representative of a competent body" in Russia on Sunday as saying Ukraine was developing nuclear weapons at the destroyed Chernobyl nuclear power plant that was shut down in 2000.

रूस ने क्या कहा- 

       रूसी मीडिया ने रविवार को एक अज्ञात स्रोत का हवाला देते हुए कहा कि यूक्रेन प्लूटोनियम आधारित "डर्टी बम" परमाणु हथियार बनाने के करीब था। रूस में "एक सक्षम निकाय के प्रतिनिधि" का हवाला दिया।  रविवार को यह कहते हुए कि यूक्रेन नष्ट हुए चेरनोबिल परमाणु ऊर्जा संयंत्र में परमाणु हथियार विकसित कर रहा था जिसे 2000 में बंद कर दिया गया था। 

   आपको बता दें कि जब पुतिन युद्ध की घोषणा 24 फरवरी को की थी तो उन्होंने एक स्पीच दिया था। उस स्पीच में कहा था कि हम यूक्रेन में एक ऑपरेशन करेंगे और इस स्पीच में पुतिन ने यह भी कहा था कि हम लोग जानते हैं कि USSR की तकनीक का प्रयोग करके यूक्रेन कई बार न्यूक्लियर बम बनाने की कोशिश कर चुका है हालांकि इसके बाद उन्होंने यह नहीं कहा कि यूक्रेन उसमें सफल हुआ है या नहीं।

न्यूक्लियर बम बनाना एक बहुत ही कठिन प्रक्रिया होती है। इसके लिए आपको प्लूटोनियम के रखरखाव की सुविधा होनी चाहिए। इन सब का प्रमाण नहीं मिला है कि यूक्रेन एक प्रॉपर न्यूक्लियर बम बना रहा है। हो सकता है कि यह डर्टी बम बना रहा हो।

 आप यह भी जान लें कि यूक्रेन के पास कभी न्यूक्लियर बम थे ही नहीं। यह आपको पता होगा कि सन 1991 में यूएसएसआर टूटकर 15 देशों में विभाजित हो गया था। यूएसएसआर (USSR) का ही भाग है यूक्रेन। जब यूएसएसआर का पूरा हिस्सा एक था तब यूक्रेन की धरती पर भी रक्षा के उद्देश्य से  न्यूक्लियर बम तैनात किए गए थे।

फिर अचानक से सन 1991 में देश (USSR) टूट जाता है तब कुछ न्यूक्लियर मिसाइल यूक्रेन में ही रह गए और ना ही सिर्फ यूक्रेन में कुछ मिसाइल कजाकिस्तान, उज़्बेकिस्तान आदि देशों में भी रह गए थे। तब रूस ने यह दावा किया था कि सारे न्यूक्लियर बम रूस संबंधित हैं।  USSR के टूटने के पश्चात सिर्फ रूस ही अकेला एक परमाणु शक्ति (Nuclear Weapons) देश बन कर उभरेगा।

WHAT IS THE BUDAPEST MEMORANDUM? 

The Budapest Memorandum of Security Assurances is a political agreement between Ukraine, Russia, the UK, and the US It was signed in 1994. According to the memorandum, signatories Russia, the US, and the UK agreed to respect the "indeperndence and sovereignty and existing borders of Ukraine" after the country agreed to give up its nuclear stockpile. Ukraine was also promised that its territorial integrity and political independence will be maintained and that the signatories will not use economic coercion against Ukraine to their own advantage. 

बुडापेस्ट मेमोरेण्डम क्या है?  

     बुडापेस्ट मेमोरेंडम ऑफ सिक्योरिटी एश्योरेंस यूक्रेन, रूस, यूके और यूएस के बीच एक राजनीतिक समझौता है, जिस पर 1994 में हस्ताक्षर किए गए थे। ज्ञापन के अनुसार, हस्ताक्षरकर्ता रूस, अमेरिका और यूके "स्वतंत्रता और संप्रभुता" का सम्मान करने के लिए सहमत हुए।  और यूक्रेन की मौजूदा सीमाएं" जब देश अपने परमाणु भंडार को छोड़ने के लिए सहमत हो गया।  यूक्रेन से यह भी वादा किया गया था कि उसकी क्षेत्रीय अखंडता और राजनीतिक स्वतंत्रता को बनाए रखा जाएगा और हस्ताक्षरकर्ता यूक्रेन के खिलाफ आर्थिक दबाव का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए नहीं करेंगे। 

  सन 1994 में Under Budapest Memorandum में एक एग्रीमेंट साइन हुआ था। इस Memorandum  के तहत यूक्रेन, कजाकिस्तान उज़्बेकिस्तान आदि देशों ने USSR के समय बने न्यूक्लियर मिसाइल को रूस को वापस सौंप दिया था। क्योंकि यह रूस के लॉन्चिंग कोड के बिना यूजलेस थे।

  इस पर एक बहुत अच्छी रिपोर्ट भी पब्लिश की गई है जिसका नाम है  -The Myth of Ukraine's Deterrent. इन मिसाइल को लॉन्च कैसे करना है? इनका विस्फोट कैसे होगा? इन सब के कोर्स कोड सब कुछ मास्को के पास है। यहां पर इस रिपोर्ट में लिखा गया है कि Moscow retained complete command and control and Kiev never had access to the authorization codes necessary to launch them.


आप यह कह सकते हैं कि यूक्रेन के लिहाज से यह मिसाइल बनावटी (Dummy) ही थे। यूक्रेन अगर मिसाइलों को रखता भी अपने पास तो आज के समय चल रही जंग में उसमें शून्य प्रभाव होता।

 जब रूस ने सन 2014 में यूक्रेन से क्रीमिया छीन लिया था उसके बाद यूक्रेन ने कहा था कि यह BUDAPEST MEMORANDUM का खुला उल्लंघन है, क्योंकि सन 1994 में यूक्रेन को इतनी इंश्योरेंस दी गई थी कि अगर यूक्रेन के पास पड़े nuclear मिसाइल रूस को वापस कर देते हैं तो उसके बदले में रूस या इंश्योर (निश्चित) करेगा कि यूक्रेन पर जब कभी भी न्यूक्लियर अटैक हो जाए तब रूस उसकी मदद करेगा। यूक्रेन के पास कभी खुद की नौकरी मिसाइल थे ही नही।


Post a Comment

0 Comments