Ticker

10/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

रूसी सेना ने तबाह कर दिया दुनिया के सबसे बड़े विमान "AN-225 म्रिया" को, 3 अरब डालर के खर्च से 5 साल में फिर से होगा तैयार

रूसी सेना ने तबाह कर दिया दुनिया के सबसे बड़े विमान "AN-225 म्रिया" को, 3 अरब डालर के खर्चे से 5 साल में फिर होगा तैयार।

रूस और यूक्रेन के बीच भीषण जंग जारी है। हालात इतने गंभीर हो चुके हैं कि दोनों देशों के बीच बची-कुची उम्मीदें भी अब नजर नहीं आ रही है।
      इसी में यूक्रेन के विदेश मंत्रालय ने दावा किया है कि रूस की सेना ने दुनिया के सबसे बड़े विमान AN-225 को नष्ट कर दिया है। यह विमान यूक्रेन की राजधानी "कीव" के पास एक विमानशाला (एयरफील्ड) में खड़ा किया गया था। जहां पर रूसी सेना ने कथित तौर पर हमला करके उसे नष्ट कर दिया है। 

       हालांकि यूक्रेनी अधिकारियों का कहना है कि वह दुनिया के सबसे बड़े विमान की मरम्मत करवा लेंगे। दुनिया के सबसे बड़े विमान का नाम "म्रिया" है इसका यूक्रेन भाषा मे अर्थ है "सपना"।
     जिसको यूक्रेनी वैमानिक कंपनी "ANTONOU" ने बनाया था। यूक्रेन के इस विमान को दुनिया के सबसे बड़े मालवाहक (कार्गो) विमान के तौर पर मान्यता मिली थी। लेकिन यूक्रेन के विमान के टूट जाने पर यूक्रेन की विदेश मंत्री "Dmytro" ने ट्वीट में लिखा कि रूस ने भले ही हमारे विमान को नष्ट कर दिया हो, लेकिन वह कभी मजबूत,आजाद और डेमोक्रेटिक राष्ट्र के हमारे सपने को नहीं तोड़ पाएंगे हम जरूर जीतेंगे।

Dmytro Kuleba @Dmytrokuleba This was the world's largest aircraft , AN - 225 ' Mriya ' ( ' Dream ' in Ukrainian ) . Russia may have destroyed our ' Mriya ' . But they will never be able to destroy our dream of a strong , free and democratic European state . We shall prevail ! 


वहीं यूक्रेन की स्टेट डिफेंस कंपनी ने बयान जारी कर बताया है कि एयरक्राफ्ट को नष्ट कर दिया गया है। लेकिन उसे रूसी खर्च पर तैयार किया जाएगा। इसमें लगभग $3000000000 (3 अरब डॉलर) का खर्च आएगा। इस काम में 5 साल का समय लगेगा। यही नहीं अपने बयान में डिफेंस कंपनी ने साफ किया है कि हमारा काम यह सुनिश्चित करना है कि मरम्मत में आने वाला सारा खर्च रशियन फेडरेशन उठाएं। क्योंकि उसने यूक्रेन के एविएशन सेक्टर (Aviation Sector) और एयर कार्गो सेक्टर (Air Cargo Sector) को भारी नुकसान पहुंचाया है।


AN-225 म्रिया कार्गो विमान की खासियत-


◆AN-225 विमान की कहानी सन 1960-70 के दशक से शुरू होती है।
◆ यह विमान 84 मीटर लंबा और 290 फीट पंखों वाला चौड़ा है।
◆ इस विमान को सन 1985 में तैयार किया गया था।
◆ इसे बनाने का लक्ष्य सामान का ट्रांसपोर्टेशन करना था क्योंकि कार्गो को ले जाने में उस समय कोई सुविधा उपलब्ध नहीं था।
◆ इस विमान का इस्तेमाल कुछ समय के लिए आर्मी के जवानों ने भी किया है।
◆ फिर इस विमान का इस्तेमाल देश-विदेश में राहत सामग्री पहुंचाने के लिए किया जाने लगा।
◆ यह विमान 250 कार्गो और 640 टन तक का सामान उठा सकता है।
◆ इस विमान ने पहली बार सन् 1988 में उड़ान भरी थी।
◆ इसकी सफलता देख कंपनी ने दूसरे विमान पर काम करना शुरू कर दिया था लेकिन वह पूरा नहीं हो पाया।
 ◆म्रिया ने 124 वर्ल्ड रिकॉर्ड और रफ्तार, ऊंचाई और वजन के अनुपात में ऊंचाई में 214 नेशनल रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं।

       खबरों की मानें तो रूस के द्वारा इस AN-225 पर इसलिए हमला किया गया है क्योंकि इसे यूक्रेन की ताकत का एक प्रतीक माना जाता है। इस विमान की तबाही के बाद उस जगह की सेटेलाइट तस्वीरें जारी की गई है जहां पर विमान खड़ा था।

        इस विमान को खोने और देश की तबाही मचने के बाद भी यूक्रेन के लोगों का कहना है कि हम हारेंगे नहीं फिर से यह नया देश बनाएंगे।

Post a Comment

0 Comments