Ticker

10/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

What is Hijab Controversy?? || क्या है हिजाब विवाद?? आइये जाने.....

क्या है हिजाब विवाद?? Hijab Controversy??

आजकल भारत देश के कर्नाटक प्रदेश का माहौल हिजाब विवाद में अधिक तनावपूर्ण हो गया है। यह विवाद में धीरे-धीरे राजनीति के गलियारों में भी गहमा-गहमी का वातावरण बना दिया है। प्रदेश की सत्ताधारी पार्टी और विपक्ष एक दूसरे के समक्ष अपना अपना पक्ष रख रहे हैं। अब यह मामला हाईकोर्ट तक जा चुका है।

 आइए जाने.... क्या है हिजाब विवाद? आजकल क्यों है सुर्खियों पर?

कर्नाटक का हिजाब विवाद भारत देश के कर्नाटक प्रदेश में कुछ लोग मुस्लिम छात्राओं के कालेज में हिजाब पहन के जाने पर विरोध दर्ज कर रहे हैं। जबकि कुछ लोगों का कहना है कि मुस्लिम छात्राओं का हिजाब पहना वाजिब है। इसी के लेकर कर्नाटक में बहुत अधिक विवाद चल रहा है जो कि अब हाईकोर्ट तक पहुंच चुका है।

हिजाब विवाद की लेटेस्ट अपडेट 

आपको बता दें कि कर्नाटक के एक कालेज में मुस्लिम छात्रों के हिजाब पहनने से शुरू हुआ विवाद अब हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचने की फिराक में आ गया है। फिलहाल अभी मामला हाईकोर्ट में ही चल रहा है। हाईकोर्ट में कल गुरुवार को इस मामले में अंतिम फैसला सुनाया गया। जिसमें 03 जजो की एक बेंच ने कहा कि जब इस पर एक संतुष्टि से नतीजा नहीं निकलता तब तक किसी भी स्कूल एवं कालेज में धार्मिक पहनावा नहीं पहना जाएगा यानी कि हाईकोर्ट ने फिलहाल इस पर रोक लगा दी है। फिर इस फैसले के खिलाफ जाकर कुछ याचिकाकर्ताओं ने इस मामले को देश की सर्वोच्च न्यायालय सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा दिया। इन याचिकाकर्ताओं में विपक्ष के नेता भी शामिल है और वहां पर इसके खिलाफ सुनवाई की मांग की है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई तब होगी जब इस मामले में उनके दखल देने का सही वक्त आएगा। इसका मतलब यह है कि अभी लोगों को हाईकोर्ट के फैसले को ही मानना होगा।

 क्या होता है हिजाब का मतलब?

 इस्लाम धर्म में हिजाब का अभिप्राय पर्दे से है। जानकारों की मानें तो कुरान में हिजाब कपड़े के तौर पर नहीं बल्कि पर्दे के तौर पर बताया गया है। स्त्री और पुरुष दोनों को ढीले और शालीन कपड़े पहनने के लिए कहा गया है। अक्सर हिजाब और नकाब को एक ही समझा जाता है। पर नकाब को चेहरे ढकने का कपड़ा होता है जबकि बुर्का पूरे शरीर को ढकने का पूरा वस्त्र होता है। हालांकि इस्लाम में चेहरे को ढकने की बात नहीं की गई है इसमें सर और बाल छुपाने का जिक्र आता है। कट्टरपंथी देशों में अक्सर महिलाओं को नकाब डालने के लिए कहा जाता है।

क्या है बुर्का?

 भारत जैसे देशों में अक्सर मुस्लिम महिलाओं को बुर्के में देखा जा सकता है। बुर्का नकाब का एक अलग प्रारूप है बुर्के में आंखें भी ढकी होती हैं। आमतर पर इसका रंग काला या भूरा होता है। आपको बता दें कि एक बुर्के की बनावट लबादे की तरह होती है। और इसे एक ही रंग का रखा जाता है जिससे उस महिला से कोई गैर आकर्षित ना हो पाए।

कैसे शुरू हुआ हिजाब विवाद?

 हिजाब विवाद का जन्म भारत देश के कर्नाटक प्रांत के उडुपी में हुआ है। इसकी शुरुआत पिछले साल दिसंबर 2021 में हुई थी। उडुपी के एक महाविद्यालय में इस घटना की शुरुआत हुई। यहां छात्राएं ड्रेस कोड को फॉलो न करके हिजाब में कालेज आई थी। कर्नाटक में ऐसी घटनाएं कुंडापुर बिंदूर जैसे इलाकों में भी देखने को मिली। मुस्लिम छात्राओं को हिजाब पहनकर क्लासरूम में प्रवेश नहीं मिला। जिसके बाद यह सारा विवाद तूल पकड़ने लगा।

जब मुस्लिम छात्राएं हिजाब पहनकर कालेज जाने लगी तो हिंदू छात्राएं भगवा स्कार्फ पहनकर आने लगी। ऐसी घटना के बाद शिक्षण संस्थानों को सख्त रवैया अपनाना पड़ा। शिक्षण संस्थानों ने हिजाब और स्कार्फ दोनों पर ही अपनी असहमति जताई। और इन दोनों पर रोक लगा दिया। यहां स्थित गंभीर होने पर पुलिस की भी मदद ली गई।

हिजाब विवाद पर राजनीति प्रतिक्रिया

 इस पूरे प्रकरण को हिंदू मुस्लिम विवाद का रंग दिया गया है। विपक्ष में बैठी कांग्रेस पार्टी ने छात्राओं के हिजाब पहनने के मंतव्य का समर्थन किया। और बीजेपी पर सांप्रदायिकता फैलाने का आरोप लगाया। उनका मानना है कि हिजाब की आड़ में बेटियों के शिक्षा के अधिकार को खतरे में डाला जा रहा है। विपक्ष इसे लड़कियों के मौलिक अधिकारों पर संकट भी बता रहा है। वहीं सत्ताधारी बीजेपी का कहना है कि उनकी पार्टी शिक्षा का तालिबानीकरण नहीं होना होने देना चाहती है। उनका मानना है कि स्कूल कॉलेज में ऐसी चीजों का होना आवश्यक नहीं है। यहां छात्र-छात्राओं को पढ़ाई लिखाई पर ही ध्यान केंद्रित होना चाहिए। इस तरह से यह विवाद काफी अधिक बढ़ गया है। जिसके चलते यहां मामला हाईकोर्ट तक पहुंच चुका है। अब देखना होगा कि यह विवाद किस नतीजे पर पहुंचकर खत्म होता है।

Post a Comment

2 Comments

  1. लेख बहुत बेहतर लिखा गया है ।

    ReplyDelete