Ticker

10/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Petrol-Diesel Hike || पांच राज्यो में चुनाव समाप्त होते ही ₹125/लीटर हो जाएगा पेट्रोल-डीजल ।

पांच राज्यों में चुनाव समाप्त होते ही ₹125/लीटर हो जाएगा पेट्रोल-डीजल ।

नई दिल्ली:- उत्तर प्रदेश और पंजाब सहित पांच राज्यों में चल रहे विधानसभा चुनाव के बाद आम आदमी को महंगाई के मोर्चे पर बड़ा झटका लग सकता है। विधानसभा चुनाव के नतीजे 10 मार्च 2022 को को आने हैं। इसके बाद डीजल और पेट्रोल महंगे हो सकते हैं क्योंकि कच्चे तेल के दाम 8 साल के उच्चतम स्तर पर जा पहुंचे हैं। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम $95 प्रति बैरल के पार पहुंच गए हैं। इससे पहले 2014 में कच्चे तेल के दाम $95 के पार पहुंच गए थे।

 जानकारों के मुताबिक आने वाले समय में अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत $100 प्रति बैरल तक पहुंच सकती है। वहीं तेल कंपनियों ने 3 नवंबर से पेट्रोल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया है लेकिन तब से लेकर अब तक कच्चा तेल $15 प्रति बैरल से अधिक महंगा हो गया है। इतना ही नहीं आगे भी इसमें तेजी जारी रह सकती है। ऐसे में आने वाले दिनों में पेट्रोल डीजल की कीमतों में ₹15 तक की बढ़ोतरी हो सकती है। 

एक्सपर्ट मुताबिक कच्चा तेल $1 प्रति बैरल महंगा होने पर देश में डीजल पेट्रोल के दाम औसतन 55 से 60 पैसे प्रति लीटर बढ़ जाती है। ऐसे में यदि क्रूड आयल $100 प्रति बैरल पर पहुंच जाता है तो पेट्रोल डीजल के दाम ₹10 प्रति लीटर तक बढ़ सकते हैं। 


$100 के पार जा सकता है क्रूड आयल

 1 दिसंबर 2021 को कच्चे तेल का दाम $69 प्रति बैरल था। जो अब $95 प्रति बैरल के ऊपर पहुंच गया है यानी ढाई महीने के भीतर कच्चे तेल के दामों में 37% की वृद्धि हो चुकी है। जल्द ही यह $100 प्रति बैरल का आंकड़ा भी पार कर सकती है।

चुनाव आते ही लग जाता है कीमतों पर ब्रेक

 एक्सपर्ट के मुताबिक सरकार भले ही पेट्रोल डीजल की कीमतें निर्धारित करने में अपनी भूमिका से इंकार करती हो लेकिन बीते वर्षों में ऐसा देखा गया है कि चुनाव के दौरान सरकार के द्वारा जनता को खुश करने के लिए पेट्रोल डीजल के दाम नहीं बढ़ाती है। पिछले वर्षों का ट्रेंड बता रहा है कि चुनावी मौसम में जनता को पेट्रोल डीजल की बढ़ी कीमतों से राहत मिलती है।


 मांग के हिसाब से आपूर्ति नहीं 

अंतरराष्ट्रीय विश्लेषकों का अनुसार अगर रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन हमला करते हैं तो कच्चे तेल की कीमतें $100 से $120 प्रति बैरल तक पहुंच सकती हैं। फिलहाल मार्केट में जितनी मांग है उतनी आपूर्ति नहीं है। ऐसे में कीमतें $100 प्रति बैरल जा सकती है।

3 नवंबर 2021 को सरकार ने घटाया था टैक्स

 केंद्र सरकार ने 3 नवंबर को पेट्रोल डीजल पर एक्साइज ड्यूटी कम करने की घोषणा की थी। अगले ही दिन देशभर में पेट्रोल डीजल की कीमतों में कमी आई और कई राज्य में भी पेट्रोल डीजल पर टैक्स कम किया इससे आम आदमी को काफी राहत मिली। इसके बाद से पेट्रोल डीजल के दाम नहीं बढ़े।

Post a Comment

0 Comments